विज्ञान वरदान या अभिशाप | Vigyan Vardan Ya Abhishap Nibandh Hindi Essay

विज्ञान, हमारे जीवन का अभूतपूर्व हिस्सा बन गया है और हमारी रोजमर्रा की ज़िन्दगी को पूरी तरह से परिवर्तित कर दिया है।

इसके साथ ही, जब हम देखते हैं, तो हमें विज्ञान का सामर्थ्य और उसकी शक्ति समझ में आती है, लेकिन क्या यह सब कुछ हमारे लिए सिर्फ़ एक वरदान है या एक अभिशाप? इस सोच-समझ को साझा करने के लिए, हम इस लेख में विज्ञान के विभिन्न पहलुओं को छूने वाले हैं और जानेंगे कि क्या वास्तव में यह हमारे लिए वरदान है या अभिशाप।

चलिए, हम साथ में इस सफलता और चुनौतियों के सफर पर निकलें और इस रहस्यमय विश्व में एक नए दृष्टिकोण की खोज में निकलें।

विज्ञान: वरदान या अभिशाप पर निबंध

प्रस्तावना (Introduction):

विज्ञान, एक ऐसा शक्तिशाली उपकरण जो हमें अत्यधिक ज्ञान और सृजनात्मकता की दिशा में अग्रसर करता है, विकास का मुखौटा है।

यह न केवल हमारे दैहिक स्वास्थ्य की देखभाल करता है, बल्कि मानव समाज को भी नए आयाम दिखाता है।

हालांकि, कई लोग इसे वरदान मानते हैं, वही कुछ इसे अभिशाप मानते हैं।

विज्ञान का वरदान (The Blessings of Science):

विज्ञान ने हमें नए और सुधारित उपकरण दिए हैं जो हमारे जीवन को सुगम बना देते हैं।

आधुनिक चिकित्सा, ऊर्जा स्रोत, यातायात, और इंटरनेट जैसे क्षेत्रों में हुए विकास ने जीवन को सरल बना दिया है।

एक कहावत है, "जो कुछ अच्छा है, वह भी जबरदस्ती हो सकता है"।

इसके साथ ही यहां हमारा ध्यान गोपनीयता, आत्म-उन्नति और बाहरी हमलों की आशंका की दिशा में बढ़ता है।

विज्ञान का अभिशाप (The Curse of Science):

जलवायु परिवर्तन: विज्ञान के प्रगति के बावजूद, यह भी सत्य है कि उसने अपने उत्सर्गीय उपयोग के कारण पृथ्वी को एक अवस्था में पहुँचा दिया है जिससे हमारे पर्यावरण को खतरा हो रहा है।

अधिक उदाहरण के लिए, वायुमंडल में ऊर्जा के विकसन से होने वाले परिवर्तन के फलस्वरूप जलवायु परिवर्तन की आशंका है।

तकनीकी अनैतिकता: तकनीक का तेजी से विकसन होने के कारण, आधुनिक समाज में अनैतिकता में वृद्धि हुई है।

बच्चों और युवाओं को बुराईयों का आदान-प्रदान तकनीकी साधनों के माध्यम से बहुत आसान हो गया है।

संदर्भ स्लोक और उदाहरण (Relevant Verses and Examples):

भगवद गीता का एक श्लोक है, "यत्र योगेश्वरः कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धरः।

तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम।।" इसका अर्थ है, जहाँ भगवान कृष्ण हैं, वहाँ विजय और समृद्धि है।

इस स्लोक से हमें यह सिखने को मिलता है कि ज्ञान और समर्पण के साथ विज्ञान का उपयोग करना हमें सफलता की दिशा में आगे बढ़ा सकता है।

ऐल्बर्ट आइंस्टीन ने यह कहा, "विज्ञान बिना धर्म के अंधेरे में है, लेकिन धर्म बिना विज्ञान के मृत्युपशु में है।" इससे हमें यह सिखने को मिलता है कि विज्ञान और धर्म दोनों का संतुलन बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

विज्ञान और आत्मनिर्भरता (Science and Self-Reliance):

भारतीय संस्कृति में विज्ञान का महत्व बहुत उच्च है।

वेदों और उपनिषदों में विज्ञान, गणित, और धर्म के बीच एक अद्वितीय संबंध का सुझाव है।

विज्ञान को सही दिशा में उपयोग करने से ही हम स्वयंनिर्भर बन सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion):

इस निबंध का समापन होते हुए, हमें यह जानकर खुशी है कि विज्ञान हमारे लिए वरदान है या अभिशाप, यह बिल्कुल हमारी सोच और क्रियाओं पर निर्भर करता है।

विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करने से ही हम समृद्धि, समाज का विकास, और आत्मनिर्भरता की राह पर बढ़ सकते हैं।

हमें अपनी जिम्मेदारी का सही से पालन करना चाहिए ताकि हम न केवल अपने लिए बल्कि पूरे मानवता के लिए एक उत्तम समर्पित समाज की दिशा में कदम बढ़ा सकें।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में 100 शब्द

विज्ञान, हमारे जीवन को सुधारने का अद्भूत साधन है, लेकिन क्या यह वरदान है या अभिशाप, यह विवादित है।

विज्ञान ने चिकित्सा, ऊर्जा, और सामाजिक दृष्टिकोण से विकास किया है, लेकिन यह भी पर्यावरण को कष्ट पहुंचा रहा है।

सही दिशा में उपयोग किया जाए, तो विज्ञान हमारे लिए वरदान है, लेकिन अत्यधिक उपयोग और अनैतिकता के साथ, यह हमें अभिशाप बना सकता है।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में 150 शब्द

विज्ञान, हमारे समय की शक्तिशाली साझा, है, जो हमें नई सोच और सुगमता की दिशा में अग्रसर कर रहा है।

हम इससे चिकित्सा, तकनीक, और आधुनिक साहित्य का आनंद ले रहे हैं, लेकिन क्या यह वरदान है या अभिशाप, यह विचार करने योग्य है।

विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करने से ही यह हमारे लिए वरदान है, लेकिन अज्ञान और लापरवाही के कारण यह हमें अभिशाप बना सकता है।

पर्यावरण की सुरक्षा, जैव विविधता का समरक्षण, और नैतिकता के प्रति जिम्मेदारी से ही हम विज्ञान को सही दिशा में अनुप्रयोग कर सकते हैं।

इसलिए, विज्ञान हमारे लिए एक वरदान है, जिसे हमें सजीव और संतुलित रूप में बनाए रखने के लिए सही तरीके से निर्देशित करना है।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में 200 शब्द

विज्ञान, एक ऐसा आधुनिक शक्ति स्रोत है जो हमें नए और सुधारित दृष्टिकोण प्रदान करता है, लेकिन इसका उपयोग हमारे लिए वरदान बनाता है या अभिशाप, यह विचार करना महत्वपूर्ण है।

विज्ञान ने चिकित्सा में अनगिनत उन्नतियों को लाकर हमें स्वस्थ रहने का संभावना दी है, जबकि तकनीक ने हमें संबंधों को सुगम बनाया है।

हालांकि, इसके साथ ही विज्ञान ने और भी चुनौतियां पैदा की हैं, जैसे पर्यावरण की हानि, बाहरी हमलों का खतरा, और अनैतिकता।

हमें विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करना चाहिए ताकि यह हमें वरदान ही लगे, न कि अभिशाप।

प्रदूषण कम करना, जल संरक्षण, और नैतिकता के प्रति जिम्मेदारी हमें एक संतुलित और सही दिशा में ले जा सकती है।

इस प्रकार, विज्ञान हमारे लिए साकार और निराकार रूप से एक सहायक हो सकता है, जिसे हमें सजीव और समृद्धिशील बनाए रखना है।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में 300 शब्द

विज्ञान, जीवन के सफल और विकसीत होने के लिए अभूतपूर्व उपकरण प्रदान करने वाला है, लेकिन क्या यह वरदान है या अभिशाप, इस पर हमें विचार करना चाहिए।

विज्ञान ने चिकित्सा के क्षेत्र में अद्भुत प्रगति की है, जिससे अनगिनत जीवनों को बचाने में सहायक हो रहा है।

नए उपयोगी उपकरणों के कारण, जीवन की गुणवत्ता में सुधार हुआ है।

तकनीकी उन्नति ने संचार, यातायात, और सूचना क्षेत्र में अद्वितीय सुविधाएं प्रदान की हैं।

हालांकि, इसके साथ ही हमें यह भी देखना चाहिए कि विज्ञान ने कई चुनौतियाँ भी उत्पन्न की हैं।

पर्यावरण की नष्टि, अधिक उपयोग से होने वाली समस्याएं, और तकनीकी अनैतिकता इनमें से कुछ हैं।

विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करने पर ही यह हमारे लिए वरदान साबित हो सकता है।

हमें पर्यावरण की सुरक्षा करनी चाहिए, सामाजिक जिम्मेदारी में सहारा लेना चाहिए और नैतिकता को सजीव रखना चाहिए।

विज्ञान का सही दिशा में उपयोग करके हम समृद्धि, समाज का विकास, और आत्मनिर्भरता की दिशा में बढ़ सकते हैं।

इस प्रकार, विज्ञान हमें उच्चतम और सबसे उत्तम का प्रदान करता है और उसे सही दिशा में लेकर ही हम समृद्धि और संतुलन की दिशा में अग्रसर कर सकते हैं।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध हिंदी में 500 शब्द

विज्ञान, हमारे जीवन का अद्भुत और आवश्यक हिस्सा है जो हमें नए और सुधारित तकनीकी साधनों से जोड़कर आगे बढ़ने में मदद करता है, लेकिन क्या यह हमारे लिए वरदान है या अभिशाप, यह एक चुनौतीपूर्ण सवाल है।

विज्ञान का वरदान:

विज्ञान ने हमें चिकित्सा क्षेत्र में बहुत सी नई और उन्नत तकनीकों से लाभान्वित किया है।

नए और अद्वितीय औषधियों के आविष्कार से हम बीमारियों का सफल इलाज कर सकते हैं।

और विज्ञान के कारण ही हम दुनिया भर में जीवन की अधिक समझ रहे हैं।

विज्ञान ने औरतों को गर्भावस्था के दौरान और बाद में सहारा देने वाली तकनीकी जानकारी प्रदान की है, जिससे शिशु और मां की जीवन सुरक्षित रह सकती है।

तकनीकी विकास के बाद, सूचना तकनीकी क्षेत्र में भी अद्भुत बदलाव हुआ है।

इंटरनेट के आगमन ने हमें दुनियाभर की जानकारी के साथ जोड़ा है और हम अपने दिनचर्या को सुविधाजनक बना सकते हैं।

विज्ञान का अभिशाप:

हालांकि, विज्ञान ने हमें अनगिनत उन्नतियों से आशीर्वादित किया है, लेकिन इसका अधिक उपयोग हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक साबित हो रहा है।

अत्यधिक उपयोग से उत्पन्न होने वाले प्लास्टिक, वायरस, और जलवायु परिवर्तन की समस्याएं हमारे लिए बड़े खतरे का कारण बन रही हैं।

औरतों को सुरक्षित गर्भनिरोधक तकनीक के बावजूद, उनकी अधिक उपयोग से उत्पन्न होने वाले हानिकारक प्रभावों के कारण विवाहित जीवन में तनाव बढ़ रहा है।

विज्ञान और जिम्मेदारी:

विज्ञान का अधिक उपयोग करने का सही तरीका यही है कि हम जिम्मेदारीपूर्वक इसका उपयोग करें।

प्रदूषण को कम करने के लिए नए और सुरक्षित तकनीकी साधनों का उपयोग करना, पेड़-पौधे बचाने के लिए योजना बनाना, और नैतिक मूल्यों का समर्थन करना विज्ञान को हमारे लिए वरदान बना सकता है।

समापन:

इस प्रकार, विज्ञान का उपयोग सही दिशा में करना हमारे हाथ में है।

हमें उच्चतम मूल्यों के साथ जीवन जीने की क्षमता होनी चाहिए ताकि हम और हमारी आने वाली पीढ़ियाँ एक स्वस्थ, सुरक्षित, और संतुलित वातावरण में रह सकें।

विज्ञान हमारा साथी है, लेकिन हमें इसका सही तरीके से उपयोग करना आता होना चाहिए ताकि यह हमारे लिए हमेशा एक वरदान ही बना रहे।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर 5 लाइन निबंध हिंदी

  1. विज्ञान हमें नई तकनीकी साधनों से जोड़कर आगे बढ़ने में सहायक है, लेकिन इसका अत्यधिक उपयोग हमारे पर्यावरण के लिए एक अभिशाप बन सकता है।
  2. चिकित्सा, ऊर्जा, और सुरक्षा क्षेत्र में विज्ञान ने हमें अनगिनत उन्नतियों से युक्त किया है, परंतु उससे होने वाले जलवायु परिवर्तन की समस्याएं भी उत्पन्न हो रही हैं।
  3. विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करने से ही हम समृद्धि, समाज का विकास, और आत्मनिर्भरता की दिशा में बढ़ सकते हैं।
  4. अत्यधिक उपयोग और अनैतिकता के साथ, विज्ञान हमें प्रदूषण, संकट, और तकनीकी अनैतिकता की दिशा में ले जा सकता है।
  5. हमें जिम्मेदारीपूर्वक विज्ञान का उपयोग करना चाहिए ताकि यह हमारे लिए सदैव एक वरदान बना रहे, न कि अभिशाप।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर 10 लाइन निबंध हिंदी

  1. विज्ञान हमारे जीवन को सुधारने में विशेष भूमिका निभाता है, लेकिन यह दुनिया को एक अभिशाप भी बना सकता है।
  2. चिकित्सा, तकनीक, और ऊर्जा क्षेत्र में विज्ञान ने अद्भुत प्रगतियों की है, लेकिन इसका अत्यधिक उपयोग प्रदूषण और पर्यावरणीय समस्याओं का कारण बना सकता है।
  3. विज्ञान के माध्यम से ही हमने जीवन को सुखद बनाया है, लेकिन अनैतिक उपयोग से यह हमें संघर्षों में डाल सकता है।
  4. विज्ञान ने जीवन को सहज और सुविधाजनक बना दिया है, परंतु इससे होने वाले समस्याएं भी उत्पन्न हो रही हैं।
  5. तकनीकी विकास के साथ, हमने जीवन की अद्वितीयता को बढ़ावा दिया है, लेकिन इसका अधिक उपयोग नकारात्मक प्रभावों का कारण बन सकता है।
  6. जिम्मेदारीपूर्वक विज्ञान का उपयोग करने से ही हम समृद्धि और संतुलन की दिशा में बढ़ सकते हैं।
  7. विज्ञान ने आधुनिक चिकित्सा में अद्वितीय सुधार किए हैं, लेकिन यह भी लोगों को बीमारियों के खतरे में डाल सकता है।
  8. हमें बुद्धिमानी से विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करना चाहिए ताकि यह हमें वरदान ही बना रहे, न कि अभिशाप।
  9. अच्छे तकनीकी साधनों का उपयोग करके ही हम समय की बचत और सुविधा का अनुभव कर सकते हैं।
  10. इसलिए, विज्ञान का सही तरीके से उपयोग करने से ही हम अपने जीवन को सुखमय और सुरक्षित बना सकते हैं।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर 15 लाइन निबंध हिंदी

  1. विज्ञान हमारे जीवन को अद्वितीयता और सुविधा का अहसास कराता है, लेकिन क्या यह हमारे लिए एक वरदान है या अभिशाप, यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न है।
  2. चिकित्सा विज्ञान ने नई और अद्वितीय उपचार पद्धतियों के साथ हमें रोगों से निपटने में मदद की है, लेकिन इसने अधिक उपयोग से जुड़े पर्यावरणीय परिणामों को भी उत्पन्न किया है।
  3. तकनीकी उन्नति ने हमें आरामदायक जीवन जीने का सुयोग दिया है, लेकिन उसका अधिक उपयोग नकारात्मक प्रभावों का कारण बन सकता है।
  4. विज्ञान ने संचार, सूचना, और ऊर्जा क्षेत्र में अद्वितीयता बढ़ाई है, लेकिन यह भी आत्म-सांविदानिक उपयोग के बिना जिम्मेदारी बढ़ा सकता है।
  5. अत्यधिक उपयोग से विज्ञान हमें प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, और सामाजिक समस्याओं का सामना करने के लिए तैयार कर सकता है।
  6. विज्ञान को सही दिशा में उपयोग करने से ही हम समृद्धि और संतुलन की दिशा में बढ़ सकते हैं।
  7. हमें विज्ञान के साथ जिम्मेदारीपूर्वक व्यवहार करना चाहिए, ताकि हम नकारात्मक प्रभावों से बच सकें।
  8. चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान ने हमें जीवन की अनगिनत समस्याओं के समाधान प्रदान किए हैं, परंतु इसका अत्यधिक उपयोग हमें स्वास्थ्य समस्याओं से भी गुजरने के कारण समस्याएं भी बढ़ा सकती हैं।
  9. तकनीकी विकास ने हमें और सुविधाएं प्रदान की हैं, लेकिन हमें उन्हें सही समय और सही तरीके से उपयोग करना आता होना चाहिए।
  10. हमें विज्ञान के उपयोग का सावधानीपूर्वक आत्म-निगरानी रखनी चाहिए, ताकि इसका अधिक उपयोग हमारे लिए सबसे अच्छा हो सके।
  11. विज्ञान ने विभिन्न क्षेत्रों में योजनाएं बनाई हैं जो हमें जीवन को सरल बनाए रखने में मदद कर सकती हैं, परंतु इसे सही समय पर सही तरीके से उपयोग करना हमारी जिम्मेदारी है।
  12. जीवन को सुखद और सुरक्षित बनाए रखने के लिए हमें विज्ञान के साथ उच्चतम मूल्यों का सामर्थ्यपूर्वक उपयोग करना चाहिए।
  13. हमें विज्ञान के नए और सुरक्षित तकनीकी साधनों को बनाने और प्रचारित करने के लिए जिम्मेदारी से जुड़ना चाहिए, ताकि वे हमारे और आने वाली पीढ़ियों के लिए लाभकारी हो सकें।
  14. विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में जागरूकता बढ़ाने के लिए हमें शिक्षा और साकार कदम उठाने की आवश्यकता है ताकि लोग सही जानकारी प्राप्त करके सही दिशा में बढ़ सकें।
  15. समापन में, विज्ञान हमें सुधारित जीवन जीने का अद्भुत अवसर प्रदान करता है, लेकिन हमें इसका सही और जिम्मेदारीपूर्वक उपयोग करना आता होना चाहिए ताकि यह हमारे लिए हमेशा एक वरदान बना रहे।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर 20 लाइन निबंध हिंदी

  1. विज्ञान हमारे समय के सबसे बड़े विकासों में से एक है, लेकिन इसका सही उपयोग हमारी जिम्मेदारी है।
  2. चिकित्सा में नए उपचारों के साथ, विज्ञान ने जीवन को बचाने में सहायक है, लेकिन अत्यधिकता से इसने भी कई समस्याएं उत्पन्न की हैं।
  3. तकनीकी उन्नति ने हमें आरामदायक जीवन देने में सहायता की है, परंतु इसका अत्यधिक उपयोग नकारात्मक प्रभावों का कारण बन सकता है।
  4. विज्ञान ने नए उपकरण, सूचना साधन, और ऊर्जा स्रोत प्रदान किए हैं, लेकिन यही साधन भूमि, जल, और वायु को भी प्रभावित कर रहे हैं।
  5. अच्छे स्वास्थ्य सेवाएं तो हैं, लेकिन इसका उपयोग समझदारीपूर्वक करना हमारे हाथ में है।
  6. हमें विज्ञानी दृष्टिकोण से इसका सही तरीके से उपयोग करना चाहिए ताकि यह हमें वरदान ही बना रहे।
  7. चिकित्सा में हो रही तकनीकी प्रगति ने लोगों की आशाएं बढ़ाई है, लेकिन यह भी उच्च खर्च और असमानता का कारण बन रहा है।
  8. तकनीकी सुधारों के बावजूद, हमें अपनी प्राकृतिक संसाधनों का उचित रूप से उपयोग करना सीखना होगा।
  9. इस दौर में, हमें विज्ञान की जागरूकता बढ़ाने के लिए शिक्षा प्रणाली में भी सुधार करना होगा।
  10. विज्ञान ने हमें नए संचार माध्यम प्रदान किए हैं, लेकिन यही आधुनिक समाज को भी अलग-अलग कर रहा है।
  11. विज्ञान और तकनीक ने हमें सामाजिक जीवन में अद्वितीयता का आनंद लेने का अवसर प्रदान किया है, लेकिन इसके बैर में भी हमें सतर्क रहना चाहिए।
  12. जबकि विज्ञान से जुड़ी नई आविष्कारों ने हमें रोजगार के नए क्षेत्रों में मौके प्रदान किए हैं, वहीं इसने कुछ क्षेत्रों को अनौपचारिक रूप से बर्बाद भी किया है।
  13. विज्ञान के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने के लिए हमें आत्म-निगरानी और सावधानी के साथ उन्नत तकनीकी ज्ञान होना चाहिए।
  14. विज्ञान ने हमें जैव ऊर्जा, सौर ऊर्जा, और अन्य सुस्त ऊर्जा स्रोतों की ओर मोड़ने के लिए मार्गदर्शन प्रदान किया है।
  15. हमें उच्चतम मूल्यों के साथ जीवन जीने के लिए विज्ञान का सही और बुद्धिमानी से उपयोग करना चाहिए।
  16. विज्ञान का सही दिशा में उपयोग करने से ही हम समृद्धि, सामाजिक समृद्धि, और पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बढ़ सकते हैं।
  17. हमें बिना किसी भी दवा या तकनीकी साधन के हमारे जीवन की कमी को समझना होगा, ताकि हम उसे ठीक से संभाल सकें।
  18. विज्ञान ने नई शिक्षा और सीखने के तरीकों को प्रमोट किया है, लेकिन हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि यह सभी वर्गों के लोगों के लिए समर्थनयोग्य है।
  19. विज्ञान ने हमें और सुरक्षित और अच्छे जीवन जीने का एक नया परिचय प्रदान किया है, लेकिन इसे खतरनाक उपयोग से बचाने के लिए हमें सभी मिलकर काम करना होगा।
  20. समापन में, विज्ञान को सही तरीके से उपयोग करने से ही हम एक समृद्ध, स्वस्थ, और सामाजिक दृष्टिकोण वाले समाज की दिशा में बढ़ सकते हैं।

इस निबंध में हमने देखा कि "विज्ञान वरदान या अभिशाप" एक बहुआयामी विषय है जो हमारे जीवन के हर पहलुओं को छूने में सक्षम है।

यह एक तरफ़ से हमें नई तकनीकी सुविधाएं, चिकित्सा की नई उपाधियाँ और सामाजिक विकास के माध्यम के रूप में लाभ पहुंचाता है, जबकि दूसरी ओर अत्यधिक उपयोग से यह हमारे पर्यावरण और नैतिकता के साथ खिलवार कर सकता है।

विज्ञान एक शक्ति है जो हमें समृद्धि और विकास की दिशा में बढ़ने में मदद कर सकती है, परंतु हमें इसे सही तरीके से नियंत्रित रखना हमारी जिम्मेदारी है। हमें उच्चतम मूल्यों और नैतिकता के साथ विज्ञान का सही उपयोग करना चाहिए ताकि यह हमारे लिए हमेशा एक वरदान बना रहे, न कि अभिशाप।

इस निबंध से हम समझते हैं कि हमें बुद्धिमानी से तकनीकी विकास का सामर्थ्यपूर्वक समझना होगा ताकि हम इसे अपने और आने वाले पीढ़ियों के लिए एक सकारात्मक रूप में सही दिशा में बढ़ा सकें।

विज्ञान हमारा सहायक है, और हमें इसे सही तरीके से प्रयोग करके ही हमेशा एक वरदान बना रह सकता है।

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Domain